Wednesday, September 22

रीवा जिले में गत वर्ष से अब तक 9 लाख 24 हजार क्विंटल अधिक गेंहू का उपार्जन गत वर्ष की तुलना में कुल उत्पादन का 22% अधिक गेंहू उपार्जित खरीदे गये गेंहू के सुरक्षित भण्डारण के लिये लगातार प्रयास जारी।

Pinterest LinkedIn Tumblr +

रीवा जिले में गत वर्ष से अब तक 9 लाख 24 हजार क्विंटल अधिक गेंहू का उपार्जन गत वर्ष की तुलना में कुल उत्पादन का 22% अधिक गेंहू उपार्जित खरीदे गये गेंहू के सुरक्षित भण्डारण के लिये लगातार प्रयास जारी।

रीवा। किसानों को उनकी उपज का अधिकतम मूल्य देने के लिये जिले भर में सहकारी समितियों के माध्यम से पंजीकृत किसानों से समर्थन मूल्य पर गेंहू की खरीद की जा रही है। गत वर्ष की तुलना में 28 मई तक 9 लाख 24 हजार क्विंटल अधिक गेंहू की खरीद हो चुकी है।

इस संबंध में जिला आपूर्ति नियंत्रक एमएनएच खान ने बताया कि रीवा जिले में 27 मई तक 45 हजार 539 किसानों से 21 लाख 79 हजार 160 क्विंटल गेंहू की खरीद की गई है। गेंहू का उपार्जन अभी भी जारी है। उन्होंने बताया कि गत वर्ष जिले में 104 खरीदी केन्द्रों के माध्यम से 45 हजार पंजीकृत किसानों से 12 लाख 55 हजार 930 क्विंटल गेंहू का उपार्जन किया गया था। गत वर्ष कुल 55 हजार 828 किसानों ने गेंहू खरीदी के लिये पंजीयन कराया था इसकी तुलना में वर्तमान वर्ष में 70 हजार 925 किसानों ने गेंहू खरीदी के लिये पंजीयन कराया है। वर्ष 2020-21 की तुलना में पंजीकृत किसानों की संख्या में 27 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। पंजीकृत रकबे में 21.9 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

जिला आपूर्ति अधिकारी ने बताया कि गत वर्ष जिले में कुल बोये गये क्षेत्रफल में से गेंहू का उत्पादन लगभग 30 लाख 9 हजार क्विंटल हुआ था। इसमें से समर्थन मूल्य पर 12 लाख 55 हजार 930 क्विंटल का उपार्जन किया गया। यह कुल मात्रा का 41 प्रतिशत था। वर्तमान वर्ष में लगभग 34 लाख 20 हजार क्विंटल गेंहू के उत्पादन का अनुमान है। इसमें से अब तक 21 लाख 79 हजार क्विंटल की समर्थन मूल्य में खरीद की जा चुकी है। यह कुल अनुमानित गेंहू उत्पादन का 63 प्रतिशत है। गत वर्ष की तुलना में कुल गेंहू उत्पादन में उपार्जन का प्रतिशत 22 प्रतिशत से अधिक बढ़ा है। अनुमान से अधिक उपार्जन के कारण कई खरीदी केन्द्रों में बारदाने की समस्या उत्पन्न हुई, लेकिन अब सभी केन्द्रों में पर्याप्त बारदाने उपलब्ध हैं। खरीदे गये गेंहू के सुरक्षित भण्डारण के लिये लगातार प्रयास किये जा रहे हैं। जिले में भण्डारण की क्षमता पूरी हो जाने के कारण रेलवे की चार रैक के माध्यम से उपार्जित गेंहू अन्य जिलों में भेजा जा रहा है।

Share.

Leave A Reply